SDO Officer Kaun Hain SDO Kaise Bane In Hindi

SDO Officer Kaise Bane? SDO बनने की योग्यता और Complete Syllabus

Posted on

आज का यह article में हम जानेंगे की SDO Officer कौन होता है. SDO के profile के साथ साथ हम यह भी जानेंगे की SDO kaise bane, SDO किस department में होता है और SDO की काम और power क्या है. इसके साथ ही हम यह भी बताएंगे की आप SDO कैसे बन सकते है. अगर आप SDO बनना चाहते है तो आप आज का यह article को पूरा पढ़ें.

SDO Officer क्या होता है?

SDO को Sub Divisional Officer कहा जाता है.

यह एक sarkari naukri होती है जो पुरे भारत के हर विभाग में नियुक्त किया है. अगर आसान शब्दों से समझे तो Sub Divisional Officer हर राज्य, हर जिले और हर शहर में नियुक्त किया जाता है. जैसा की हमने आपको बताया हर विभाग में SDO होता है, विभाग कोई भी हो सकता है जैसे- जल विभाग, बिजली विभाग, आदि.

Sub Divisional Officer (SDO) का काम क्या होता है?

SDO राज्य सरकार का बहुत ही अहम हिस्सा है. जैसा की हमने आपको ऊपर बताया की SDO  की नियुक्ति हर राज्य के हर जिले और शहर में की जाती है, इसका मतलब साफ़ है की SDOs  राज्य सरकार को सही रूप से संचालन करने का काम करता है.

Sub Divisional Officer संभाग स्तर पर सरकारी कार्यो को सही रूप से संचालन करने का काम करते है. अगर तरीके से समझा जाए तो SDO अपने विभाग का एक प्रमुख अधिकारी या Officer होता है जिसको उसी विभाग के छोटे अधिकारी अपने काम का update या जवाबदेही देते है.

SDO अपने area को improve करने का काम करता है और तहसीलदारो और अलग-अलग अधिकारियो के साथ अपने एरिया की देख-रेख करते है. यही नहीं, SDO जनता के द्वारा दी गयी शिकायतों को भी सुनता है और उन शिकायतों पर काम करता है. जैसे की एक जिला प्रमुख की भूमिका होती है वैसे ही SDO की भी उनके विभाग में वही भूमिका होती है.

SDO कैसे बने?

अब हम सीखते हैं की sdo officer kaise bane?

SDO का चयन दो तरीको से होता है जो सरकार द्वारा किया जाता है. जो पहला तरीका है, उसमे आपको विभाग में SDO के निचे वाले पद पे Officer के रूप में नियुक्त किया जाता है. जब आपको छोटे पद पे नियुक्त किया जाता है, तब आपकी training होती है. वैसे तो कोई specific  training नहीं होती बस आपके काम के माध्यम से training ली जाती है. यदि कोई Officer का काम विभाग द्वारा सराहनीय होता है तब उस Officer को SDO Officer बना दिया जाता है. इस तरीके को आप promotion भी कह सकते है. बात करे दूसरे तरीके की तो SDO पद की direct भर्ती से नियुक्ति होती है. यह तरीके से candidate को SDO Officer की भर्ती की परीक्षा देनी होगी जिसको pass करने के बाद आप सीधे तौर पे SDO Officer बन सकते है.

SDO Officer एक सरकारी पद है तो यह तो कहना पड़ेगा की यह post की नियुक्ति राज्य सरकार द्वारा लोक सेवा आयोग के ज़रिये की जाती है. लोक सेवा आयोग को PSC कहते है जिसका अर्थ Public Service Commission होता है.

SDO Officer की Required Qualification क्या है?

SDO Officer बनने के लिए candidate को graduate होना compulsory है. अगर आपने graduation नहीं किया है तो आप SDO Officer के लिए eligible नहीं है. आइये जाने की SDO Officer बनने के लिए कौन कौनसी योगयता होना आवशयक हैं.

sdo officer बनने की आवशयक योगयताए हैं

  1. जिस विभाग के लिए भर्ती निकाली गयी है उस विभाग के specific area से संबंधित graduation की degree होनी चाहिए.
  2. Candidate की उम्र 21 से 30 साल के बीच में होना ज़रूरी है. हालाँकि अगर candidate OBC category में आता है तो उसको 3 years की आगे में छूट (relaxation) है, यदि SC/ST में आता है तो 5 years की छूट (relaxation) है.

यदि ऊपर दी गयी requirements candidate द्वारा satisfied  है तो वह SDO भर्ती परीक्षा में बैठ सकता है. आपको यह ध्यान रखना होगा की अगर आप ऊपर दी गयी requirement को satisfy नहीं करते है और आप फिर भी apply कर देते है तो आपका candidature document verification के time cancel कर दिया जाएगा.

SDO Officer Selection Process

SDO Officer recruitment examination के तीन चरण है.

  1. Preliminary exam
  2. Main exam
  3. Interview

आईये इनके बारे में ाची तरह से जानते हैं.

Preliminary exam 

SDO Officer बनने के लिए यह पहली परीक्षा है जिसको candidate को clear करना बहुत जरुरी है. यदि candidate इस exam को clear करने में fail हो जाता है तो वह main exam में नहीं बैठ सकता. इस exam में General Knowledge, mathematics से related questions पूछे जाते है. यदि candidate इस exam को clear कर लेता है तो वह मैं exam में बैठ सकता है. इस exam का level easy to moderate तक होता है जिसको clear करने में candidate को परेशानी नहीं होनी चाहिए.

Main exam

Main exam SDO recruitment का दूसरा चरण है जो candidate तभी दे सकता है जब उसने Preliminary exam को clear कर लिया हो. यह exam का level Prelims से थोड़ा कठिन होता है. इसमें exam का level moderate to hard होता है. जब यह exam को candidate पास कर लेता है तो उसे आगे interview के लिए बुलाया जाता है.

Interview

यह SDO recruitment आखरी चरण है. इस चरण में उन candidates को बुलाया जाता है जिन्होंने दोनों exams को पास कर लिया हो. इस इंटरव्यू में candidate को test किया जाता है जिससे पता चलता है की candidate SDO post के काबिल है की नहीं. जो deserving candidates होते है उन्हें चुन लिया जाता है.

जिनका Interview clear नहीं हो पाता उन्हें निराश नहीं होना चाहिए, वह फिर से अपना luck try कर सकते है.

SDO Examination Syllabus

किसी भी परीक्षा की तैयारी करने के लिए आपको सबसे पहले उस exam का पूरा syllabus पता होना चाहिए. अगर आपको syllabus अच्छे से पता है तो बस preparation की ज़रूरत है. आइये जानते है SDO examination के syllabus को

  • General Awareness
    इसमें History, Geography, Civics, Current Affairs और Sports जैसे topics आते है.
  • English
    इसमें जो topics आते है वो 10+2 level English के होते है, जैसे Comprehension, sentence completion, basic grammar, vocabulary test, आदि.
  • Numerical Ability
    इसमें mathematical questions पूछे जाते है जो इसके टॉपिक्स है Profit & Loss, Average, Percentage, आदि. इनमे Quantitative mathematics वाले topics है.
  • Reasoning & Aptitude Test
    इसमें रीजनिंग एंड एप्टीटुड बेस्ड क़ुएस्तिओन्स आते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *